वास्तु के इन नियमों का महिलाएं करें पालन, घर में आएगी खुशहाली


वास्तु के अनुसार नारियां घर की उर्जा की मूल स्त्रोत होती है और अगर वे अपने स्वभाव और वास्तु शास्त्र के इन कुछ नियमों का पालन करें तो घर में सुख-शांति और समृद्धि आ सकती है. तो आइए जानते हैं कि वास्तु के अनुसार महिलाओं को घर में क्या उपाय करने चाहिए. घर में साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखने की जरूरत है. इससे घर में सकारात्मक उर्जा आकर्षित होती है. महिलाओं को सफाई के तुरंत बाद करें स्नान घर की साफ-सफाई के बाद तुरंत नहाना चाहिए. इससे तन-मन स्वच्छ हो जाते हैं और नया काम करने के लिए सकारात्मक उर्जा शरीर में आती है. अक्सर देखा जाता है कि सफाई करने के बाद महिलाएं बिना नहाएं इधर-उधर घूमती रहती है, जिससे घर में नकारात्मक उर्जा बिखरती है.

खाना बनाने से पहले नहाना आवश्यक वास्तु के अनुसार ये अत्यंत आवश्यक है कि आप खाना बनाने से पहले नहा लें. नहाने के बाद खाना बनाने पर खाना ज्यादा स्वास्थ्यवर्धक और सकारात्मक उर्जा से भरपूर हो जाता है. घर में यह भी देखा जाता है कि बिना नहाएं ही महिलाएं अपने बच्चों का टिपिन तैयार कर देती है ऐसा खाना खाने से बच्चों में चिड़चिड़ापन और बुद्धि मलिन हो जाती है. पूजा-अर्चना में भी दे कुछ पल जो महिलाएं चाहती है कि उनके घर में सुख-शांति और समृद्वि बनी रहे इसके लिए आवश्यक है कि घर में कुछ पल अपने आराध्य की पूजा-अर्चना में भी बिताएं. दिया-बत्ती करने से घर में सकारात्मकता आती है. सुबह जल्दी उठे महिलाएं घर की महिलाओं को चाहिए कि अल सुबह ही बिस्तर छोड़ दें. देर तक सोने वाली महिलाएं न तो अपना काम ठीक से कर पाती है और न ही अपने पति और बच्चों का ठीक से ध्यान रख पाती है. सूर्यास्त के बाद न संवारे बाल वास्तु के अनुसार सूर्यास्त के बाद स्त्रियों को बालों में कंघा करना सही नहीं माना जाता है. शाम के समय कंघा करने से देवी लक्ष्मी रूठ जाती है. चिड़चिड़ाना और गुस्सा होना छोड़े जरा-जरा सी बातों पर गुस्सा करना और चिड़चिड़ाना घर में नकारात्मक उर्जा भर देता है. खासकर महिलाओं को बार-बार गुस्सा करना और तेज आवाज में बातें करने से घर में अशांति का वातावरण पैदा करता है.

LEAVE A REPLY