खुद की मर्जी से की जाने वाली वेश्यावृति अपराध की श्रेणी में नहीं : कोर्ट


इन दिनों देश भर में लाखों सेक्स वर्कर अपनी जीविका इसी धंधे से चला रहे है , इस देह व्यापार की बात अगर की जाए तो इसमें कई जिस्मों के सौदागर ऐसे भी है जिन्होंने कई मासूमों को भी इस दलदल में धकेल कर रखा हुआ है , वैसे तो इस देह व्यापार को कानूनी किताबों में अवैध घोषित करते हुए इसमें सजा का प्रावधान बनाया है मगर गुजरात हाईकोर्ट के द्वारा एक मामले में सुनाया गया फैसला इन दिनों चर्चा का विषय बना हुआ है ! जिहां वेश्यावृति को लेकर गुजरात हाईकोर्ट ने एक अनोखा फरमान सुनाया है, जिसमे माननीय न्यालय के दवारा सुनाये गए एक फैसले में कहा गया कि अपनी मर्जी से किया गया देह व्यापार यानी वेश्यावृति अपराध नहीं है !


indianews24x7.in@ Gujrat Hi Courtगुजरात हाई कोर्ट ने शुक्रवार को एक मामले में अपना फैसला सुनाया कि यदि बगैर किसी जबर्दस्ती के अपनी मनमर्जी से सेक्‍सवर्कर वेश्‍यावृति का पेशा अपनाती है तो यह कोई अपराध नहीं है और उसपर कोई केस नहीं बनता। अदालत में आइपीसी की धारा 370 के प्रावधानों को सुना जा रहा था। कोर्ट ने भारतीय दंड संहिता की धारा 370 के प्रावधानों के बारे में बताया जिसके तहत शारीरिक व यौन शोषण के मामले आते हैं जिसे निर्भया गैंगरेप के बाद केंद्र सरकार ने और सख्‍त बना दिया। इसमें सेक्‍स वर्कर के ग्राहक को भी अपराधी के तौर पर पेश किया गया है।


अदालत विनोद पटेल की याचिका की सुनवाई कर रही थी, जो कथित तौर पर 3 जनवरी को सूरत में एक वेश्यालय में गए थे। इसके बाद पुलिस छापे के दौरान पांच सेक्स वर्कर के साथ उन्‍हें गिरफ्तार किया गया था। पटेल पर आईपीसी की धारा 370 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया था।


sexworkerजस्‍टिस जेएस वर्मा कमिशन के समक्ष जस्टिस जेबी पर्दीवाला ने एक बहस का उल्लेख किया जिन्‍होंने निर्भया मामले के बाद कानून में संशोधन के लिए सिफारिशें की थीं। पटेल यह कहते हुए हाईकोर्ट गए वह किसी सेक्स वर्कर या पीड़ित के साथ नहीं पकड़े गए बल्कि वह अपनी बारी का इंतजार कर रहे थे इसलिए वह किसी पीड़ित की इच्छा के खिलाफ देह व्यापार में किसी व्यक्ति के शोषण में शामिल नहीं था। इसके बाद कोर्ट ने पटेल पर लगे सभी आरोपों खारिज करते हुए कहा कि वह रैकेट का हिस्सा नहीं थे। हालांकि यह मामला पूरी तरह से बंद नहीं हुआ है क्‍योंकि कोर्ट ने इसे जांच का मामल बताते हुए कहा कि इसमें यह पता करना होगा कि पटेल ने भुगतान कर दिया था और वे कस्‍टमर की श्रेणी में थे।

 

">
SHARE
Previous articleIPL -10 : दिल्ली पर मुंबई की ऐतिहासिक विजय, 146 रनों से हराकर बनाया सबसे बड़ी जीत का रिकॉर्ड
Next articleकेदारनाथ धाम जा रहा वाहन खाई में गिरा, चार यात्रियों की मौत
■ www.indianews24x7.Com ■ www.indianews24x7.in ● इंडिया न्यूज़ 24x7 एक वेब न्यूज़ पोर्टल है, इस वेब न्यूज़ पोर्टल का किसी भी रीजनल या नेशनल चैनल से किसी प्रकार का वास्ता नही है, इंडिया न्यूज़ 24x7 न्यूज़ पोर्टल को किसी भी नेशनल या रीजनल चैनल के साथ नाम जोड़कर बताने वाला व्यक्ति या संस्थान स्वयं जिम्मेदार होगा, तथा कानूनी कार्यवाही का भी, ● इंडिया न्यूज़ 24x7 न्यूज़ पोर्टल भी कानूनी कार्यवाही में उस संस्थान के साथ खड़ा होगा जो ऐसा ग़लत कार्य करता पाया जाएगा, हमारे न्यूज़ पोर्टल का उद्देश्य पत्रकारिता की आड़ में दलाली को बढ़ावा देना नही है, बल्कि उसे जड़ से खत्म करना हैं । ●आवश्यक सूचना : इंडिया न्यूज 24x7 न्यूज पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें यदि किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो indianews24x7.in@gmail अथवा 08090697372, 09580697372 पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें, जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

LEAVE A REPLY