देख भाई हँसना मत

 

1~ एक बृद्धा चेक‍अप कराने अस्पताल गई, जहां एक युवा डाक्टर उसे चैक्‍अप करने के लिए केबिन ले गया, थोडी देर मे वह लगभग चिल्लाती हुई कैबिन से बाहर भागी, जहां एक सीनियर डाक्टर ने उसे रोक कर सारी बात जाननी चाही ।
सारी बात जान कर बह युवा डाक्टर के कैबिन मे आया और उसे डाटते हुए बोला, तुम्हारा दिमाग तो ठीक है? 65 साल की महिला को तुम कह रहे हो कि वह मां बनने वाली है।
सौरी सर, पर मै क्या करता, उस की हिचकी रोकने का दुसरा तरीका नही था, जूनियर डाक्टर वोला ।
* एक डॉक्टर ने डिलीवरी के समय महिला से पूछा- क्या आप बच्चे के पिता को यहां अपने पास देखना चाहेंगी?
…….
……
महिला ने जवाब दिया- नहीं डॉक्टर, मेरे पति उसे पसंद नहीं करते।
* डॉक्टर (घोंचू से)- अगर तुम 8 किलोमीटर प्रतिदिन के हिसाब से 300 दिनों तक दौड़ोगे, तो तुम्हारा वजन 34 किलो तक कम हो जाएगा।
घोंचू ने डॉक्टर के कहे अनुसार दौड़ना शुरू कर दिया।
……..
……….
300 दिन पूरे होने के बाद घोंचू ने डॉक्टर को फोन किया और बताया कि उसका वजन तो कम हो गया है, पर उसके साथ एक समस्या आ खड़ी हुई है।
…..
……….
डॉक्टर ने पूछा- क्या समस्या है?
घोंचू- मैं अपने घर से 2400 किलोमीटर दूर आ गया हूं।
* घोंचू (डॉक्टर साहब से)- ‘डॉक्टर मुझे अपनी पत्नी से डर लगता है। वह सोते-सोते कहने लगती है, ‘नरेश नहीं, नरेश नहीं’।
डॉक्टर- ‘तो तुम क्यों डरते हो? आखिर मना ही तो करती है।’
घोंचू- ‘लेकिन मैं नरेश नहीं हूं।’
* घोंचूजी ने कपड़े की नई दुकान खोली थी। एक रात उन्होंने सपने में देखा कि एक ग्राहक बीस गज कपड़ा मांग रहा है।
खुश होकर उन्होंने थान से कपड़ा फाड़ना शुरू किया।
तभी पत्नी जाग गई और चिल्लाई, ‘क्या कर रहे हो? मेरी साड़ी क्यों फाड़ रहे हैं?’
वह नींद में बुदबुदाए- ‘कम्बख्त बीवी! दुकान में भी पीछा नहीं छोड़ती।’
* एक पत्नी बड़ी शक्की थी। जब भी कहीं से उसका पति घर लौटता, तो वह उसकी जांच-पड़ताल करती। अगर पति के कपड़ों पर कोई बाल भी दिखाई दे जाता तो वह आसमान सिर पर उठा लेती।
एक बार पति के कपड़ों पर बाल का नामोनिशान न देखकर भी वह फूट-फूटकर रोने लगी। बोली- ‘तो अब गंजी औरतें भी…।’
* चम्पू (डॉक्टर से)- आपने नर्स बहुत चंगी रखी है, उसके हाथ लगाते ही में ठीक हो गया।
डॉक्टर- मैं जानता हूं..। थप्पड की आवाज बाहर तक आई थी।
* चिकित्सक (महिला मरीज से)- बैठिए, मुझे आपके चेहरे के कुछ एक्स-रे लेने होंगे।
महिला मरीज- डॉक्टर साहब, यह एक्स-रे क्या होता है?
चिकित्सक- बस, फोटो खींचने जैसी ही प्रक्रिया होती है।
महिला बोली- बस, दो मिनट रुकिए, मैं जरा अपना मेकअप ठीक कर लूं।
* घोंचू- आप जो मुझे जिंदा देख रहे हैं इसका पूरा श्रेय डॉ. जोशी को जाता है।
पोंचू- सच! …क्या हुआ तुम्हें?
घोंचू – मुझे मामूली जुकाम था। मैंने डॉ. शर्मा का इलाज किया तो जुकाम बुखार में तब्दील हो गया। फिर मैंने डॉ. वर्मा की दवाई ली तो बुखार निमोनिया बन गया। फिर डॉ. ज्ञानी के इलाज से मेरी सांस ही उलटी चलने लगी।
पोंचू- ओह! फिर क्या हुआ?
घोंचू- घबराकर मेरी पत्नी ने डॉ. जोशी को फोन किया। उन्होंने आने से इंकार कर दिया… इसी की बदौलत मैं बच गया और आज जिंदा हूं।
* डॉक्टर – अब तबीयत कैसी है?
चम्पू – जी, पहले से खराब है जी।
डॉक्टर – दवाई खा ली थी।
चम्पू – नहीं, नहीं, दवाई की शीशी भरी हुई थी।
डॉक्टर – मेरा मतलब है ‍दवाई ले ली थी।
चम्पू – जी, आपने कल यही दी थी वो मैंने ले ली थी।
डॉक्टर – मेरा मतलब है दवाई पी ली थी।

LEAVE A REPLY