उन्नाव रेप पीड़िता एक्सीडेंट मामले में नया खुलासा, हादसे में सपा नेता के ट्रक ने मारी थी टक्कर !


  • दुर्घटना में शामिल ट्रक समाजवादी पार्टी के नेता और पार्टी के पूर्व जिला सचिव नंद किशोर पाल उर्फ नंदू का है. उनका कहना है कि यह महज एक हादसा है. इसे बेवजह तूल दिया जा रहा है. उनका कहना है कि ट्रक के नंबर प्लेट पर ग्रीस पोतने की वजह केवल फाइनेंसर की नजरों से बचना था.


उन्नाव : रविवार दोपहर रायबरेली हाईवे पर जिस ट्रक ने उन्नाव रेप पीड़िता समेत उसके परिजनों की कार को टक्कर मारी थी वो फतेहपुर के समाजवादी पार्टी (सपा) नेता और पार्टी के पूर्व जिला सचिव नंद किशोर पाल उर्फ नंदू का है. हालांकि इस मामले में सपा नेता का कहना है कि यह महज एक हादसा है. इसे बेवजह तूल दिया जा रहा है, उनका कहना है कि ट्रक के नंबर प्लेट पर ग्रीस पोतने की वजह केवल फाइनेंसर की नजरों से बचना था.

दैनिक जागरण के मुताबिक फतेहपुर के ललौली कस्बे के सातआना मोहल्ला निवासी नंदू की पत्नी रामाश्री असोथर ब्लॉक प्रमुख रह चुकी हैं. नंदू कुल 4 भाई हैं और उनके पास कुल 27 ट्रक हैं. नंदू अपने दूसरे नंबर के भाई देवेंद्र किशोर के साथ मिलकर ट्रक चलवाते हैं, जबकि भाई सुनील और पंकज घर में रहकर खेती करते हैं. जिस ट्रक से हादसा हुआ, वो घटना के दिन रायबरेली में मौरंग उतारने के बाद फ़तेहपुर लौट रहा था.

हादसे में पीड़िता की चाची और मौसी की मौत

मामले पर एडीजी लखनऊ जोन राजीव कृष्णा ने जानकारी देते हुए बताया कि घटना रविवार दोपहर 1 बजे की है जब उन्नाव रेप पीड़िता को लेकर जा रही कार और ट्रक में आमने-सामने की टक्कर हुई. इस दुर्घटना में 2 लोगों की मौत हुई है. मामले में पुलिस की फॉरेंसिक टीम जांच कर रही है. साथ ही ट्रक ड्राइवर, क्लीनर, ट्रक मालिक, विधायक कुलदीप सिंह सेंगर और उनके साथियों के मोबाइल नंबरों की भी जांच की जा रही है. उन्होंने बताया कि यह पता करने की कोशिश हो रही है कि क्या ट्रक ड्राइवर, मालिक, क्लीनर और बीजेपी विधायक व उनके सहयोगियों के बीच किसी तरह की जान-पहचान रही है कि नहीं. पुलिस मामले के हर पहलुओं से जांच कर रही है, दुर्घटनाग्रस्त इसी कार में पीड़ित लड़की और उसके रिश्तेदार सवार होकर लौट रायबरेली से उन्नाव लौट रहे थे. उनके साथ उनका वकील भी कार में सवार था.

बांदा से मौरंग लेकर आया था ट्रक

एडीजी ने बताया कि ट्रक ड्राइवर और उसके मालिक से पूछताछ हुई है. ड्राइवर के मुताबिक वो बांदा से मौरंग लेकर रायबरेली पहुंचा था. मौरंग की डिलीवरी के बाद वो रायबरेली से फ़तेहपुर जा रहा था. पीड़िता की कार रायबरेली से उन्नाव की तरफ जा रही थी, जिस समय यह हादसा हुआ उस वक्त भारी बारिश हो रही थी. दोनों वाहनों के बीच टक्कर आमने-सामने हुई है. वहीं ट्रक के नंबर प्लेट पुता हुई होने पर एडीजी ने कहा कि ट्रक मालिक के मुताबिक उसने गाड़ी फाइनेंस करवाई थी और उसकी किश्त नहीं चुका रहा था, लिहाजा फाइनेंसर से बचने के लिए उसने ऐसा किया.

साभार : न्यूज़18 इंडिया


 

">

LEAVE A REPLY