तेज बहादुर की वाराणसी से नामांकन रद्द की याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने कर दी खारिज 


दिल्ली : 2016 में सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो से चर्चा का विषय बने पूर्व बीएसएफ जवान तेज बहादुर ने बीएसएफ से बर्खास्त होने के बाद चुनावी रणनीति में उतरने का फैसला लिया था. जिसके चलते उन्होंने उत्तर प्रदेश के वाराणसी से दलित लोकसभा सीट से चुनाव लड़ने का नामांकन भरा था. जिसको चुनाव आयोग ने रद्द कर दिया. चुनाव आयोग के इस निर्णय के खिलाफ तेज बहादुर ने सुप्रीम कोर्ट में अपनी याचिका दायर की थी. जिसको आज सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया है. आपको बता दें कि चुनाव आयोग ने पूर्व बीएसएफ जवान तेज बहादुर यादव के नामांकन को जरूरी दस्तावेजों को जमा नहीं करने के चलते निरस्त कर दिया था. आयोग के इसी निर्णय के खिलाफ तेज बहादुर यादव सुप्रीम कोर्ट चले गए थे.

वही बता दे कि इस याचिका पर तेज बहादुर की ओर से पेश वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण ने कहा कि ‘जो दिख रहा है, मामला उससे कहीं ज्यादा है. खाने की गुणवत्ता पर सवाल उठाने पर तेज बहादुर को प्रताड़ित किया जा रहा है. इससे वे लोग नाराज हैं.’ भूषण की दलील पर सीजेआई रंजन गोगोई ने कहा कि अदालत को उनकी अर्जी में कोई मेरिट नहीं दिखाई दे रही है. सुप्रीम कोर्ट ने कहा, ‘एक सीमा के बाद हम चुनाव आयोग के फैसले में दखल नहीं दे सकते है.

">

LEAVE A REPLY