रोज नाश्ते में खाएं पपीता, मोटापा व कोलेस्ट्रॉल को करेगा कम


आज के समय में मोटापा व कोलेस्ट्रोल जैसी बीमारी लोगों को घेरती जा रही है. मोटापा व कोलेस्ट्रोल को कम करने के लिए लोग क्या नहीं करते हैं? लेकिन मोटापा व कोलेस्ट्रोल टस से मस नहीं होता है. जिसके चलते लोगों में कई प्रकार की बीमारियो घर बनाते जाती है. लेकिन आज हम आपको एक ऐसे फल के बारे में बताने जा रहे हैं. जोकि आपके मोटापे व कोलेस्ट्रोल को कम करने में  मददगार रहेगा. आपको पता ही होगा कि पपीता एक ऐसा खास फल है. इसका सेवन ना सिर्फ शरीर के अंदर खून को शुद्ध करता है, बल्कि पेट से लेकर त्वचा और बालों के लिए भी किसी वरदान से कम नहीं है. साथ पपीता में विटामिन सी से भरपूर होता है. पके पपीते में मौजूद एंटी-ऑक्सिडेंट और फाइबर शरीर में कोलेस्ट्रॉल और खून के थक्के बनने से रोकता है. कई बार कोलेस्ट्रॉल दिल का दौरा और रक्तचाप बढ़ाने समेत दिल से जुड़ी कई बीमारियों का कारण बनता है. रोज के खाने में पपीते का इस्तेमाल आपको बड़ा फायदा पहुंचाएगा. इसमें बेहद कम कैलरी होती है, जो मोटापा घटाने में मदद करती है.

वही, इसमें फाइबर की मात्रा ज्यादा होने से आंतों की सेहत ठीक रहती है. शुगर के मरीजों के लिए पपीता एक बेहतरीन विकल्प है. स्वाद में मीठा होने के बावजूद इसमें शुगर की मात्रा बेहद कम होती है. पपीते में मौजूद विटामिन ए की मात्रा आंखों की रोशनी के लिए सबसे अच्छा विकल्प होता है. इसमें मौजूद विटामिन सी हड्डियों के लिए अच्छा होता है. यह आर्थराइटिस जैसी गंभीर बीमारी से भी बचाता है. पपीते के ज्यादा सेवन से किडनी में पथरी का खतरा बढ़ जाता है. विटामिन सी की अधिक मात्रा सांस से जुड़ी परेशानी भी बढ़ा सकती है. इसके अधिक सेवन से अस्थमा और पीलिया की आशंका भी बढ़ती है. गर्भावस्था में भूलकर भी पपीते का सेवन नहीं करना चाहिए, क्योंकि इससे गर्भपात होने की आशंका अधिक रहती है. और जिन्हें शुगर की दिक्कत है तो उन्हें भी पपीते का सेवन करना चाहिए जिससे खून में शर्करा के स्तर को कम करता हैं. जिससे शरीर में इंसुलिन की मात्रा बढ़ती है. इसलिए पपीते का सेवन ज्यादा से ज्यादा करना चाहिए

">

LEAVE A REPLY