4 फरवरी को मौनी और सोमवती अमावस्या एक साथ, पितृ दोष निवारण के लिए करें अचूक उपाय

0
85

धार्मिक जगत : माघ मास में पड़ने वाली मौनी अमावस्या 4 फरवरी 2019 को है. माघ मास की मौनी अमावस्या सोमवार को पड़ रही है इसलिए यह एक दुलभ संयोग है कि माघ मास में मौनी अमावस्या और सोमवती अमावस्या एक साथ है, जो बहुत कम देखने को मिलता है. इतना ही नहीं इस दिन सर्व सिद्धि योग (सर्वार्थ सिद्धि योग) भी है जिसके कारण इस मौनी अमावस्या का महत्व और भी अधिक हो गया है.मौनी अमावस्या पर चंद्रमा सूर्य, बुध और केतु के साथ मकर राशि में हैं और वृहस्पति वृश्चिक राशि में भ्रमण कर रहे हैं. इस दिन पितृ दोष निवारण के लिए पितृ दोष उपाय श्रद्धा पूर्वक किए जाएं तो सर्व पितृों का आशीर्वाद प्राप्त होता है और पितृ दोष से मुक्ति मिलती है.


मौनी अमावस्या 2019 शुभ मुहूर्त

मौनी अमावस्या का शुभ मुहूर्त 12:13:28 से 12:57:07


पितृ दोष कैसे लगता है..?

सबसे पहले आपको यह बात दें कि पितृ दोष कैसे लगता है..? जिस जातक की कुंडली में सूर्य नीच स्थान में, शत्रुक्षेत्रीय और राहु केतु के साथ हो, तो पितृ दोष (पितृ दोष) होता है. जब भी पितृ दोष लगता है तो बहुत समस्याएं आती हैं. जैसे शारीरिक वा मानसिक तनाव, धन व्यय, कार्यों में असफलता, पूजा-पाठ में ध्यान नहीं लगना, रोजगार में दिक्क्त, दाम्पत्य जीवन में कलेश, गृह कलेश समेत कई समस्यायों का सामना करना पड़ता है.


पितृ दोष के उपाय

अब हम बात करेंगे पितृ दोष के उपाय के बारे में. जो जातक पूरी निष्ठा के साथ अपने पितृों (पूर्वजों) की सेवा करते हैं और उन्हें भोग-वस्त्र आदि अर्पण करते हैं साथ ही पितृों का श्राद्ध-तर्पण करते हैं उन्हें पितृ दोष से मुक्ति मिलती है. पितृ दोष दूर करें के 10 अचूक उपाय


पितृ दोष उपाय : 1

पितृ दोष से मुक्ति के लिए घर की दक्षिण दिशा की दीवार पर दिवंगत पूर्वजों की फोटो लगाकर उनकी पूजा करें और ब्राह्मणों को भोजन, वस्त्र एवं दक्षिणा सहित दान, पितृ तर्पण और श्राद्ध कर्म करना चाहिए.


पितृ दोष उपाय : 2

अमावस्या को अपने पितृों का ध्यान करते हुए पीपल पर दूध, गंगाजल, जल, काले तिल, चीनी, चावल, पुष्पादि चढ़ाते हुए “ॐ पितृभ्यः नमः” मंत्र का जाप करें.


पितृ दोष उपाय : 3

महामृत्युंजय मंत्र या पितृ स्तोत्र, रूद्र सूक्त या, नवग्रह स्तोत्र का पाठ करें, कुल देवता और इष्ट देव की सदैव पूजा करते रहें. पितृ दोष शांत होगा.


पितृ दोष उपाय : 4

अमावस्या को पितृ स्तोत्र या पितृ सूक्त का पाठ करना चाहिए, विष्णुसहस्रनाम का पाठ भी करने से पितृ दोष दूर होता है.


पितृ दोष उपाय : 5

अमावस्या पर सूर्य देव को तांबे के बर्तन में लाल चन्दन और गंगाजल डालकर तीन बार अर्घ्य दें. अर्घ्य देते हुए यह मंत्र पढ़ें –

“एहि सूर्य सहस्त्रांशो तेजोराशे जगत्पते .

अनुकम्पय मां देवी गृहाणार्घ्यं दिवाकर II”


पितृ दोष उपाय : 6

श्री नारायण कवच का पाठ करें, ब्राह्मणों को मिठाई और दक्षिणा सहित भोजन करवाना चाहिए. गौ, कौवों, कुत्तों और भूखों को खाना खिलाना चाहिए, इससे भी पितृ दोष में शांति मिलती है.


पितृ दोष उपाय : 7

सोमवार के दिन आक के 21 पुष्पों और बेलपत्र के साथ शिव को अर्पित करें, पीपल के वृक्ष पर जल, गंगाजल, काले तिल, पुष्प, अक्षत, दूध, चढ़ाएं और शाम को दीपक जलाएं.


">

LEAVE A REPLY