फिल्म समीक्षा : तकनीकी रूप से बेमिसाल है 2.0


फिल्म का नाम : 2.0
डायरेक्टर: एस शंकर
स्टार कास्ट: रजनीकांत, अक्षय कुमार, एमी जैक्सन, आदिल हुसैन और अन्य
अवधि: 2 घंटा 28 मिनट
सर्टिफिकेट: U/A
रेटिंग: 2.5 स्टार

डायरेक्टर एस. शंकर की फिल्म एंथीरन (रोबोट ) रिलीज हुई थी तो वह एक अलग तरह का प्रयोग था. उसे दर्शकों ने काफी पसंद किया. ‘चिट्टी’ का किरदार सबको पसंद आया था. अब करीब 8 साल के बाद उस फिल्म को आगे बढ़ाते हुए शंकर ने 2.0 बनाई है. फिल्म तकनीकी रूप से काफी स्ट्रॉन्ग है. जिस तरह का वीएफएक्स, लोकेशन शंकर ने दिया है, उसकी जितनी भी तारीफ़ की जाए कम है. विजुअल ट्रीट कमाल का है. इसमें सुपरस्टार रजनीकांत के साथ-साथ हिंदी फिल्म इंडस्ट्री के “खिलाड़ी” अक्षय कुमार हैं. ये एक साइंस फिक्शन, एक्शन मूवी है, जिसे14 भाषाओं में डब करके रिलीज किया जा रहा है. आइए जानते हैं  कैसी है ये फिल्म…

कहानी- कहानी उस पल से शुरू होती है, जब लोगों के मोबाइल अचानक से गायब होने लगते हैं और कोई शक्ति उन्हें अपनी ओर खींच कर लापता कर देती है. वैज्ञानिक वसीकरण(रजनीकांत) को भी इसका पता नहीं चल पाता. गृहमंत्री एस विजय कुमार (आदिल हुसैन) इसके लिए वसीकरण की मदद लेते हैं, जो उस शक्ति के बारे में पता करने की कोशिश करता है. इसी बीच नीला (एमी जैकसन) और चिट्टी (रजनीकांत) की एंट्री होती है. लेकिन कहानी में ट्विस्ट तब आता है जब पक्षीराज (अक्षय कुमार) की मौजूदगी दर्ज होती है. मोबाइल के गायब होने की वजहें सामने आती हैं. अंततः क्या होता है इसके बारे में जानने के लिए आपको थिएटर में ही पता चलेगा.

अक्षय कुमार का लुक कमाल का है. जिस तरह से वो फिल्म में अपने लुक से सरप्राइज करते हैं. रजनीकांत का काम वैज्ञानिक और रोबोट के रूप में बढ़िया है. साथ ही एक और सरप्राइज उनके किरदार के साथ आता है, जिसके बारे में आपको फिल्म देखकर ही पता चलेगा. फिल्म का बैकग्राउंड स्कोर, साउंड डिजाइन बेहतरीन है. एमी जैक्सन का ज्यादा काम नहीं है. लेकिन उन्होंने सहज अभिनय किया है. आदिल हुसैन, सुधांशु पांडेय और बाकी सह कलाकारों का काम भी ठीक है .

साभार : पल-पल इंडिया

LEAVE A REPLY