2019 के आम चुनावों में कांग्रेस के लिए ‘अच्छे दिन लौट’ आएंगे : शिवसेना


मुंबई : इन दिनों 2019 के चुनाव को लेकर पार्टी के बड़े-बड़े दिग्गज नेता एक दूसरे की पार्टियों पर तंज कसते नजर आ रहे हैं. वहीं दूसरी ओर बीजेपी की हार के लिए एक दूसरे की पार्टी से गठबंधन भी कर रहे हैं. साथ ही अपनी पार्टी  का जोरों शोरों के साथ प्रचार भी करते नजर आ रहे हैं. वही कर्नाटक उपचुनाव को लेकर शिवसेना पार्टी के अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने भी बीजेपी पर तंज कसा. आपको बता दें कि कर्नाटक उपचुनावों में अपनी सहयोगी पार्टी भाजपा की हालिया शिकस्त पर शिवसेना ने बृहस्पतिवार को तंज कसते हुए कहा कि यह इस बारे में संकेत देते हैं कि 2019 के आम चुनाव में कांग्रेस के लिये ”अच्छे दिन लौट आयेंगे. उद्धव ठाकरे नीत पार्टी (शिवसेना) ने यह भी कहा कि देश में हुए लोकसभा और विधानसभा उपचुनावों में भाजपा को मिली हार के चलते आम चुनाव से पहले कांग्रेस में एक नयी जान आ जाएगी.

आपको बता दें कि शिवसेना पार्टी के मुखपत्र ”सामना में कटाक्ष और व्यंग्य से भरे संपादकीय में शिवसेना ने कहा कि शायद अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के चुनावी वादे की अनदेखी करने और ”कुछ अन्य एजेंडा को थोपने के कारण ही भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की कर्नाटक में हार हुई. भाजपा का उपहास उड़ाते हुए संपादकीय में लिखा गया है कि पार्टी को यह सोचना चाहिए कि आखिर क्यों उसकी ”हार का सिलसिला बदस्तूर जारी है, जबकि बकौल भाजपा उसके नेतृत्व वाली सरकार ने देश में कुछ ”क्रांतिकारी बदलाव किये हैं.

वही, अब अपनी रणनीति को बदलेगी बीजेपी :-

गठबंधनो को देखते हुए बीजेपी अब अपनी रणनीति को बदलेगी आपको बताते चलें कि बीजेपी को एक तगड़ा झटका देते हुए जेडीएस-कांग्रेस गठबंधन के उम्मीदवारों ने मंगलवार को पांच में से चार सीटों पर जीत दर्ज की. पिछले सप्ताह हुए इन उपचुनावों में लोकसभा की तीन और विधानसभा की दो सीटें थी. यह हार भाजपा के लिये कहीं अधिक पीड़ादायक है क्योंकि वह अपनी गढ़ मानी जाने वाली बेल्लारी सीट कांग्रेस के हाथों हार गयी. पार्टी ने कहा, ”उपचुनावों में उत्तर प्रदेश से जो हार का सिलसिला शुरू हुआ, उस बारे में भाजपा को खुद अध्ययन और आत्मावलोकन करना होगा. लेकिन बकौल सत्तारूढ़ पार्टी, जब देश में सब कुछ अच्छा हो रहा और क्रांतिकारी बदलाव हो रहे हैं तो ऐसे में उसकी हार का सिलसिला रुक क्यों नहीं रहा है? शिवसेना ने कहा, ”भाजपा की (विभिन्न उपचुनावों में) हार कांग्रेस में नयी जान फूंक देगी.

LEAVE A REPLY