जानिए घर पर लगी घड़ी के शुभ-अशुभ प्रभाव के बारे में


व्यक्ति अपने नए घर में प्रवेश करने से पहले वास्तुदोष की पूजा करवाता है. ताकि उस घर में सुख और शांति बनी रहे. वैसे तो वास्तु शास्त्र के दोष घर में कई प्रकार के रूप में पाए जाते हैं. जिससे घर की दिनचर्य शैली बिगड़ जाती है. इसलिए व्यक्ति अपने घर में भगवान के मूर्ति के साथ-साथ कमरे में लगी घड़ी को वास्तु शास्त्र के अनुसार स्थापित करते हैं. बात करें घड़ी की तो घर में लगी घड़ी अगर बंद हो जाए तो वास्तु शास्त्र के अनुसार शुभ-अशुभ प्रभाव डालने की स्थिति उत्पन्न हो जाती है. आपको बता दें कि वास्तुशास्त्र में हमारे जीवन में शुभ और अशुभ प्रभाव डालने वाली स्थितियों के बारे में विस्तार से बताया गया है. इसमें यह भी बताया गया है कि अगर आपके घर में बंद पड़ी या टूटी घड़ी लगी है, तो आपका दुर्भाग्य शुरू हो जाएगा. लेकिन आप कुछ बातों को ध्यान में रखकर इस दुर्भाग्य को दूर कर सकते हैं.

ध्यान रखने वाली बाते :-

● दीवार घड़ी को घर की पूर्व, पश्चिम या उत्तर दिशा में लगाना शुभ माना जाता है. पूर्व दिशा में लगाई गई घड़ी घर का वातावरण शुभ और प्यार वाला बनाए रखती है. पश्चिम दिशा में घड़ी लगाने से घर के सदस्यों के नए अवसरों की प्राप्ति होती है और उत्तर दिशा में लगाई गई घड़ी घर को पैसों के नुकसान से बचाती है.

● घर में बंद पड़ी या टूटी हुई घड़ी नहीं लगानी चाहिए. इससे घर में सकारात्मक ऊर्जा कम होने लगती है और नकारात्मकता बढ़ती है. इसी कारण आपका दुर्भाग्य शुरू हो जाता है.

● घर की दक्षिण दिशा घर के मुखिया की दिशा मानी जाती है. इसलिए इस दिशा में घड़ी लगाने से घर के मुखिया की सेहत पर भी बुरा असर पड़ सकता है.

● वास्तु के अनुसार घर की दक्षिण दिशा में यम का वास होता है और यही दिशा ठहराव का प्रतीक भी मानी जाती है. इस दिशा में घड़ी लगाने से आपका शुभ समय ठहर जाता है और सफलता के अवसर नहीं मिलते.

● इसके साथ आपको घर के मेन गेट के ऊपर घड़ी नहीं लगानी चाहिए. ऐसा करने से घर के बाहर की नकारात्मकता आपके जीवन में प्रवेश करने लगती है और तनाव बढ़ने लगता है.

LEAVE A REPLY