जानिए सावन के पावन अवसर पर कानपुर के प्रसिद्ध मंदिर बाबा आनंदेश्वर के बारे में, जहां लाखों की तादाद में आते हैं श्रद्धालु


Indianews24x7@ कुलदीप सिंह भदौरिया
कानपुर : आनंदेश्वर मंदिर परमट यह मंदिर कानपुर, उत्तर प्रदेश, भारत में स्थित है। आन्देश्वर मंदिर गंगा के किनारे स्थित है।  यहां सभी देवी देवताओं के छोट व बडे मंदिर स्थिपित है। जैसे देवी अन्नपुर्णा, काली माता, काल भैरव, भगवान गणेश व कार्तिक, नवग्रहों का मन्दिर आपको बताते चलें कि ये प्रख्यात आन्देश्वर मंदिर कई एकड जमीन पर कानपुर में बना हुआ है तथा इस मंदिर का निर्माण 18वीं शताब्दी में हुआ था। भक्तो के द्वारा कहा और ऐसा माना जाता है कि आज भी आन्देश्वर मंदिर में भगवान शिव दर्शन देते है। भगवान भोले नाथ इस मंदिर में शिवलिंग के रुप में विराजमान है।
maxresdefault-7
आन्देश्वर मंदिर की विशेषता यह है कि सौ से भी ज्यादा घण्टीयां मंदिर में है और 12 खिडकियों वाला मुख्य द्वार है। इस मंदिर का ‘प्राकृतिक’ शिव लिंग प्रमुख आकर्षण है। आन्देश्वर मंदिर भारत भर में और यहां तक कि विदेशों से पर्यटकों और भक्तों को आकर्षित करती है, सबसे बड़ा आकर्षण यहाँ पर होने वाली बाबा शिव की आरती है, जहाँ आरती के पश्चात सामने माँ गंगा और बाबा नन्दी की ओर शिवलिंग  के दर्शन से आरती सम्पूर्ण मानी जाती है ।
anandeshwar-temple
इस प्रकार है मंदिर से जुडी कथा :-
ऐसा माना जाता है कि इसी स्थान पर महाभारत काल में कर्ण रोज पूजा करने आते थे। जब कर्ण अपनी पूजा करने आते थे पूजा के दौरान आनंदी नाम की एक गाय अपना पूरा दूध इस स्थान पर जोड देती थी। गाय के इस प्रकार के व्यवहार से गाये के मालिक को बहुत अजीब लगता था , गाये के मालिक ने गांवों वालो का इकठा किया और इस स्थान की खुदाई करी तो गावों वालों का जमीन के अन्दर शिवलिंग मिला जो आज भी मंदिर में स्थिपित है, गावों वालो ने सोचा की शिवलिंग को किसी अच्छे स्थान पर स्थिपित किया जाये परन्तु पूरा जोर लगाने के बाद भी शिवलिंग अपने स्थान से नहीं हिला जिसके बाद सभी ने हार मानकर उस शिवलिंग को वहीं उसी स्थान पर स्थापित रहने दिया जहाँ आज भगवान शिव का भव्य आनंदेश्वर परमट मंदिर स्थापित है तथा मंदिर का नाम गाये के नाम के आधार पर आन्देश्वर रखा गया था, जो आज भी इसी नाम से प्रसिद्ध है।
आन्देश्वर मंदिर में शिवरात्रि का त्योहार बहुत धूमधाम से मनाया जाता है। सावन के महीने में प्रत्येक सोमवार के दिन लाखो भक्त भगवान शिवलिंग के दर्शन को आते है, आपको बताते चलें कि आन्देश्वर मंदिर में भक्त गंगा से गंगाजल लेकर शिवलिंग पर अर्पित करते है, और सभी का मानना है कि बाबा उनकी हर मनोकामना जरूर पूर्ण करते हैं ।

LEAVE A REPLY