एक ऐसा युवा जो तैयार कर रहा है देश सेवा के लिए युवाओं की फ़ौज

0
416

कानपुर: जहां एक तरफ आज युवा नशे की तरफ अग्रसर हो रहे हैं गलत पथ पर अग्रसर हो रहे हैं वहीं इसके उल्टा बात कर कानपुर की किया जाए तो एक ऐसा युवा भी है जो निस्वार्थ भाव से युवाओं को देश सेवा के लिए तैयार कर रहा है ।

हम जिसकी बात कर रहे हैं उसे 2008 से खुद यह लगन लगी कि आर्मी में जा कर देश सेवा करनी है पर कहीं ना कहीं कुछ बातें मुसीबत की तरह सामने आई जिसकी वजह से वह खुद तो आर्मी में नहीं जा पाया पर उसके बाद उसने हार नहीं मानी और उसने मन ही मन निश्चय किया और अन्य युवाओं के प्रति जज्बा बनाया युवाओं को तैयार करने का 2008 से बराबर युवाओं को दौड़ की तैयारी कराई आज उसके सिखाए कई युवा देश सेवा में हैं और कई युवा आज भी आकर उससे देश सेवा में जाने की तैयारियों के गुण लेते हैं !


हम बात कर रहे हैं फतेहपुर के जहानाबाद निवासी धर्मेंद्र कुमार उर्फ JD की JD ने कई प्रतिस्पर्धाओं मैं राष्ट्रीय के साथ-साथ राज्य और जिले स्तर पर दौड़ की प्रतियोगिताओं में भाग लिया कई मेडल और कई ट्रॉफियां जीती 2008 से यह बराबर दौड़ की कई प्रतिस्पर्धाओं में जीत चुके हैं, लखनऊ में हुई चौथी हाफ मैराथन में 21 किलोमीटर की रेस में दौड़े डीबीएस कॉलेज में लगातार तीन साल फिल्मों में चैंपियन रहे कानपुर की दौड़ कई प्रतिस्पर्धाओं में पहले और दूसरे नंबर में रहे लगभग डेढ़ सौ से ज्यादा रेस में भाग लिया इनके पिता जी शोभा परिषद किसान और मम्मी यशोदा ग्रहणी है चार भाइयों में सबसे बड़े हैं जबकि दो भाई भी उनके साथ रहकर आर्मी में जाने की तैयारी कर रहे हैं इनसे तैयारी लेकर अभी ही 2016 के पुलिस भर्ती में रोहित पटेल ने परचम फहराया साथी साथ पुष्पेंद्र आर्मी में गया और साथ ही साथ चित्र यादव भी देश सेवा के लिए आर्मी में है !


अभी इस युवा ने चित्र सपोर्ट फिजिकल एकेडमी के नाम इंस्टिट्यूट चालू किया है जिसमें केवल ₹1000 में यह युवाओं को फिजिकल ट्रेनिंग के साथ-साथ खान पान की ट्रेनिंग के भी गुण प्रदान कर रहे हैं और वह भी बड़े दबे मन से बताते हैं कि यह ₹1000 भी उन्हें लेने में अफसोस होता है क्योंकि वह बच्चों को ट्रेंड करना चाहते हैं पर जीवन यापन के लिए कुछ ना कुछ करना जरूरी है क्योंकि वह खुद कानपुर के एक मोहल्ले में किराए के कमरे में रहते हैं काफी समय से घर से बाहर है घर की स्थिति इतनी मजबूत नहीं है सरकार को इस ओर ध्यान देना चाहिए कि हम जैसे युवा युवाओं को देश सेवा के लिए तत्पर करते हैं कुछ ऐसी मदद हो जिससे कि हम निस्वार्थ भाव से ऐसे ही बराबर बिना कोई पैसा लिए इन युवाओं को ट्रेंड कर सकें क्योंकि देश का युवा कहीं ना कहीं अन्य राज्यों की बात की जाए तो भटक रहा है कश्मीर हो या किस जगह वहां पर युवाओं का भटकाव के द्वार पर लाया जा रहा है ।


कानपुर में हुई पहली ओपन चैंपियनशिप में 800 मीटर की रेस में अभी ही इस युवा को गोल्ड मेडल मिला 2 मिनट 10 सेकेंड में उन्होंने 800 मीटर की रेस कंप्लीट की सुबह से ही 5:00 बजे ग्राउंड में सभी स्टूडेंट पहुंच जाते हैं फिर वहां चालू होता है फिजिकल ट्रेनिंग ।

दौड़ के साथ-साथ एक्सरसाइज डाइट की पूरी जानकारी बच्चों को लिया जानकारी कि किस तरह से भविष्य में होने वाली भर्तियों में दौड़ निकाली जा सके और किन-किन बातों का ध्यान रखकर दौड़ को निकाला जा सकता है कि कि नशे से दूर रहना है किन चीजों का खान-पान नहीं करना है 2008 से लेकर 2018 10 वर्षो की मेहनत में कई बच्चे देश सेवा के लिए तत्पर हैं और कई बच्चे देश सेवा कर भी रहे हैं ।


कई लोगों से बात करने के बाद यह बात निकलती है कि जेडी निस्वार्थ भाव से कई बरसो से बच्चों के साथ मेहनत कर रहे हैं उन्हें सही ट्रेनिंग दे रहे हैं साथ ही साथ इस बात को भी समझा रहे हैं कि जज्बा हो तो मेहनत करने वाले की हार नहीं हो सकती है हां रास्ते में मुसीबतें जरूर आती हैं JD बताते हैं कितनी मेहनत करने के बाद भी उनको जो मिलना चाहिए था वह नहीं मिला और कोई भी और ध्यान भी नहीं देता पर उनके हौसले कमजोर नहीं होते हैं और वह इसी तरह युवाओं को तैयार करते रहेंगे चाहे कुछ भी हो जाए अगर सरकार थोड़ा ध्यान दे देगी हम जैसे और युवा आगे निकल कर आएंगे जो देश सेवा के लिए कुछ करेंगे वरना जो हालात कश्मीर में है उसका एक बड़ा कारण है बेरोजगारी और सरकार का इस ओर ध्यान ना देना


कैमरा पर्सन अंकित यादव के साथ अभय ठाकुर

LEAVE A REPLY