कर्नाटक में अमित शाह ने जेडीएस और कांग्रेस के पाले में लगाई सेंध, 7 की जगह 13 विधायक येदियुरप्पा के साथ, बहुमत साबित कर देगी बीजेपी

0
137

 


कर्नाटक में सियासी घमासान कुछ ही समय मे थम सकता है, ताज़ी जानकारी के अनुसार देश की सर्वोच्च अदालत सुप्रीम कोर्ट ने अब आदेश दे दिया है की कर्णाटक के मुख्यमंत्री येदियुरप्पा को कल यानि 19 मई को शाम को 4 बजे कर्णाटक की विधानसभा में बहुमत साबित करना होगा, यानि अब 24 घंटे का समय रह गया है जी समय मे किसी भी हाल में येदियुरप्पा को बहुमत साबित करना होगा, वैसे सूत्रों की माने तो BJP खेमे में सारी तैयारियां पूरी हो चुकी है, और वो फ़्लोर टेस्ट में पास हो जाएगी ।


इंडिया न्यूज 24x7


आपको बताते चले कि पहले राज्यपाल ने बहुमत साबित करने के लिए JDS और कॉंग्रेस को मौका न देते हुए BJP को 15 दिनों का समय दिया था जिसे असंवैधानिक बताते हुए कांग्रेस सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई करवा रही थी और अब सुप्रीम कोर्ट ने 19 मई को बहुमत साबित करने का आदेश दे दिया है ।

अब चलते हैं आंकड़ों के तरफ तो वर्तमान में बीजेपी के पास 104 विधायक है और बहुमत के लिए 111 विधायक चाहिए, 112 नहीं चूँकि कुमारस्वामी 2 सीट से अकेले विधायक है, पर उनका वोट 2 नहीं बल्कि 1 ही माना जायेगा, ऐसे में कुल सीट 221 हो जाती है और 111 बहुमत है, बीजेपी को बहुमत के लिए 7 विधायको की जरुरत है

और ऐसे 13 विधायक कांग्रेस और जेडीएस के है जो की येदियुरप्पा के साथ है, और 13 में से 13 या फिर कम से कम 7 को बीजेपी अपने पाले में लेकर बहुमत साबित कर देगी, जो 13 विधायक बीजेपी के संपर्क में है, जिससे बीजेपी आसानी से ये जादुई आंकड़ा छू लेगी और 5 वर्ष पूरी अकेले सरकार चलाएगी ।


 

कौन कौन विधायक है बीजेपी के साथ, ये रही सूची

आनंद सिंह – ये होसपेट से विधायक है, ये लम्बे समय तक बीजेपी में ही रहे है, 2 महीने पहले ही बीजेपी छोड़ कांग्रेस में शामिल हो गए थे चूँकि बीजेपी ने टिकेट नहीं दिया

थानागेंदा – ये बेल्लारी ग्रामीण से कांग्रेस के विधायक है, ये भी बीजेपी में थे, और रेड्डी बंधुओं के करीबी है, आनंद सिंह के साथ ही 2 महीने पहले इन्होने कांग्रेस ज्वाइन किया

थाजे ऐन गणेश – ये कम्पली से कांग्रेस के विधायक है, ये रेड्डी बंधुओं के करीबी है

प्रताप गौड़ा पाटिल – ये मसकी से विधायक है, ये 2008 तक बीजेपी में ही थे, अभी कांग्रेस के विधायक चुने गए है, बीजेपी नेताओं से करीबी संबंध है

शिवानन्द पाटिल – बगेवेदी से कांग्रेस विधायक है, जब चुनाव नहीं हुए थे तब इन्होने बीजेपी की तारीफ की थी और बीजेपी में शामिल होने की कोशिश भी की थी, मोदी के प्रशंसक रहे है

MY पाटिल – अफ्ज़लपुर से कांग्रेस के विधायक है, ये बीजेपी में ही थे, ये कांग्रेस में सिर्फ इस बात से शामिल हो गए थे क्यूंकि बीजेपी ने कांग्रेस से आये नेता को टिकेट दे दिया ।

थानागागौदा कनाद्कौर – ये जेडीएस के विधायक है, पिछले साल 2017 में इन्होने बीजेपी ज्वाइन करने की कोशिश की थी, ये भी मोदी के प्रशंसक है

वेंकातारामान्नापा – ये पवागादा से कांग्रेस के विधायक है, जब येदियुरप्पा की सरकार कर्णाटक में बनी थी तो ये उस सरकार में शामिल थे, येदियुरप्पा से अच्छे संबंध है

पी पुत्तारंगाशेत्टी – ये चमराज्गानर से विधायक है, ये बीजेपी के वरिष्ट नेता एश्वाराप्पा के कई दशको तक सहयोगी रहे है
के एस लिंगेश – ये जेडीएस के एकमात्र लिंगायत विधायक है, ये येदियुरप्पा के करीबी रहे है, येदियुरप्पा के लोगों से इनके पारिवारिक रिश्ते भी है

शिवराम हेब्बल – ये एक ब्राह्मण विधायक है और उडुपी मठ से इनके संबंध है, जिसपर योगी आदित्यनाथ का ख़ासा प्रभाव है, बीजेपी से इनके पुराने रिश्ते रहे है

राजशेखर पाटिल – ये व्यापारी हैं, इनके आरएसएस और बीजेपी दोनों के व्यापारिक संगठनो से संबंध है, कांग्रेस के विधायक है

देवेन्द्र चौहान – नाग्थान से जेडीएस के विधायक है, इनके येदियुरप्पा से पुराने संबंध रहे है, और ये भी एक व्यापारी हैं, जो की राजशेखर पाटिल की तरह ही बीजेपी और आरएसएस के व्यापारिक संगठनो से जुड़े हुए है

ये 13 विधायको की सूचि है जो की बीजेपी के संपर्क में है, और कल जब बीजेपी के नेता येदियुरप्पा विधानसभा में बहुमत साबित कर रहे होंगे तो इसमें से सभी 13 या कम से कम 7 तो येदियुरप्पा के साथ हो जायेंगे, और येदियुरप्पा बहुमत साबित करने में सफल रहेंगे ।


 

LEAVE A REPLY