मोदी सरकार का प्रयास, जैव ईंधन के माध्यम से पेट्रोल करेंगे सस्ता

0
49

 

 


दिल्ली :  दिन प्रतिदिन पेट्रोल व डीजल के दामों में आ रही बढ़ोत्तरी के चलते आम आदमी को राहत नहीं मिल पा रही है. जिसके चलते मोदी सरकार ने एक महत्वपूर्ण कदम उठाने का मन बना लिया है. जिससे पेट्रोल और डीजल के दामों पर लगााम कसी जा सकती है. आपको बता देंं कि इन दिनों बढ़ रहे पेट्रोल-डीजल के रेट ने आम आदमी की कमर तोड़ कर रख दी है. आम आदमी को राहत देने और पेट्रोल डीजल पर लगाम के लिए मोदी कैबिनेट ने महत्वपूर्ण प्रस्ताव पारित किया है. प्रस्ताव के तहत जैव ईंधन पर राष्ट्रीय नीति-2018 को मंजूरी दे दी गई. नीति के तहत पेट्रोल के साथ मिलाए जाने वाले एथेनॉल के उत्पादन के लिए कच्चे माल का दायरा बढ़ाते हुए अनुपयुक्त अनाज, सड़े आलू और चुकंदर आदि के इस्तेमाल की अनुमति दी गई है.

वही मिली जानकारी के अनुसार इस नीति में जैव ईंधनों को तीन श्रेणियों में वर्गीकृत किया गया है. इसके तहत प्रथम पीढ़ी के जैव ईंधन में शीरे से बनाए गए एथेनॉल और कुछ गैर खाद्य तिलहनों से तैयार जैव डीजल, दूसरी श्रेणी यानी विकसित जैव ईंधनों में शहरी ठोस कचरे (एमएसडब्ल्यू) से तैयार एथेनॉल तथा तीसरी श्रेणी के जैव ईंधन में जैव सीएनजी आदि को श्रेणीबद्ध किया गया है. बताया जा रहा है कि मोदी कैबिनेट ने जैव ईंधन पर जिस राष्ट्रीय नीति-2018 नीति पर मुहर लगाई है उसे स्पष्ट रूप से कहा गया है कि गैर-खाद्य तिलहनों, इस्तेमाल किए जा चुके खाना पकाने के तेल, लघु लाभ फसलों से जैव डीजल उत्पादन के लिए आपूर्ति श्रृंखला तंत्र स्थापित करने को प्रोत्साहन दिया जा रहा है.


 

LEAVE A REPLY