5वें एशियाई चैंपियंस ट्रॉफी में खिताब बचाओ अभियान की शुरुआत करेगी महिला हॉकी टीम


जहां एक ओर मैड्रिड ओपन टेनिस टूर्नामेंट में पेत्रा क्वीतोवा पेत्रा क्वीतोवा ने किकी बर्टेंस को हराकर तीसरी बार जीत का खिताब अपने नाम कर लिया है. वह ऐसा करने वाली दुनिया की पहली महिला खिलाड़ी बन गई हैं. वहीं दूसरी ओर टेनिस से अलग हॉकी के खेल की बात करें तो महिलाओं ने इस खेल में भी अपना लोहा मनवाने के लिए महिला हॉकी टीम पीछे नहीं हटेगी. इस चैंपियन ट्रॉफी में जीत के लिए महिला हॉकी टीम ने रणनीतियां  शुरू कर दी है. आपको बता दें कि भारतीय महिला हॉकी टीम पांचवें एशियाई चैंपियंस ट्रॉफी में रविवार को जापान के खिलाफ होने वाले मुकाबले से अपने खिताब बचाओ अभियान की शुरुआत करेगी.

बता दें कि पांचवें एशियाई चैंपियन ट्रॉफी में भारतीय महिला हॉकी टीम  की कप्तान सुनीता लाकड़ा और उपकप्तान सविता की नजरें विश्व रैंकिंग में 12वें नंबर की टीम जापान के खिलाफ मजबूत शुरुआत करने पर लगी होंगी, जिसने पिछले मुकाबलों में भारत को कड़ी टक्कर दी थी. वर्ष 2013 के चैंपियंस ट्रॉफी में जापान ने भारत को हराकर खिताब जीता था.  वही, वर्ष 2016 के संस्करण में जापान ने भारत को 2-2 से ड्रॉ पर रोका था, लेकिन भारत ने चीन को हराकर खिताब अपने नाम किया था. भारत को पिछले साल जुलाई में हाकी वर्ल्ड लीग में जापान से 0-2 से हार का सामना करना पड़ा था. हालांकि भारत ने इस हार का बदला अपनी मेजबानी में हुए एशिया कप में चूकता कर लिया था.

गौरतलब यह है कि भारतीय हॉकी टीम के कप्तान सुनीता ने मैच की पूर्वसंध्या पर कहा, ‘जापान के खिलाफ मुकाबला हमेशा मुश्किल रहा है. वे एक उच्च स्तरीय टीम है. हमारे लिए यह अहम होगा कि हम उनकी रक्षापंक्ति को जल्दी भेदें. हम टूर्नामेंट की अच्छी शुरुआत करना चाहते हैं. हम यहां जीत की मानसिकता के साथ आए हैं और मैच दर मैच इसे जीतना चाहते हैं. मलेशिया के खिलाफ अभ्यास मैच अच्छा रहा था और इसी लय को आगे भी बरकरार रखना चाहते हैं.

LEAVE A REPLY