मिजोरम: केन्द्र सरकार की लापरवाही से कई स्कूलों में हिन्दी के अध्यापकों की सेवाएं की समाप्त

0
54

केन्द्र की योजनाओं का धन जारी न किये जाने की वजह से मिजोरम में सैकड़ों स्कूलों में हिन्दी के अध्यापकों की सेवाएं समाप्त कर दी गई हैं. राज्य के शिक्षा मंत्री एच रोहलुना ने मिजो नेशनल फ्रंट (एमएनएफ) के विधायक डॉ के बीछुआ के प्रश्न के उत्तर में कहा कि केन्द्र प्रायोजित योजनाओं का धन केन्द्र सरकार की ओर से जारी न किये जाने से अनुबंध पर नियुक्त सैकड़ों अध्यापकों की सेवाएं समाप्त कर दी गयी हैं. रोहलुना ने कहा, हमने केन्द्र सरकार से हिन्दी के अध्यापकों के लिए धन जारी करने का अनेक बार आग्रह किया लेकिन केन्द्र ने मिजोरम में हिन्दी के प्रचार-प्रसार के लिए धन आवंटित नहीं किया. इस स्थिति में राज्य सरकार के पास हिन्दी अध्यापकों की सेवाएं समाप्त करने के अलावा कोई रास्ता नहीं था.

उन्होंने कहा कि केन्द्र सरकार दावा करती है कि गैर हिन्दी भाषी राज्यों में हिन्दी भाषा का प्रचार-प्रसार उसकी प्राथमिकता है. इस प्राथमिकता के बावजूद धन की कमी से मिजोरम में हिन्दी का प्रचार-प्रसार बाधित हो रहा है. स्कूलों में हिन्दी अध्यापकों के न होने के कारण मिजोरम में हजारों छात्र हिन्दी सीख नहीं पा रहे हैं. कुछ गांवों में अभिभावक चंदा एकत्र हिंदी टीचर्स की नियुक्ति करवा रहे हैं जिससे उनके बच्चों को हिन्दी सीखने का मौका मिल सके. रोहलुना ने कहा, मैने सुना है कि कई विधायकों ने अपने भत्ते से अपने-अपने क्षेत्रों में हिन्दी अध्यापकों की नियुक्ति करा रखी है.

LEAVE A REPLY